पंचक शांती / त्रिपाद शांती


पंचक शांती / त्रिपाद शांती

हिंदू धर्म में मृत्यु को जीवन का अंत नही समझा जाता बल्कि ये एक शरीर छोड़ने के बाद आत्मा की 'मोक्ष' (अंतिम मुक्ति) कि ओर यात्रा शुरू होती है|


पंचक कि तिथियाँ ज्योतिषीय गणनाओं पर आधारित होते हैं इसीलिये तो पहली बात यह है कि आपको मृतक के मृत्यु का समय जाँच करना चाहिए‌| पंचक व्यक्ति के मरने के लिए एक बहुत बुरा समय है । पंचक पाँच नक्षत्रों (सितारे) (धनिष्ठा, शातभिशा, पूर्वा भद्रापद, उत्तरा भद्रापद और रेवती) का संयोजन है|




अधिक माहितीसाठी संपर्क करा

श्री. पदमाकर बी. पिंगळे

+(91)-9922144835
+(91)-9323548982
+(91)-9322831290

ईमेल: contact@trimbakeshwarkalsarppooja.com



Copyright ©2020 Trimbakeshwarkalsarppooja.com | Website developed by Nasik Services.Com